Vedio LOVE POEM |नशा तब का चढ़ा था जो ,अभी तक न उतर पाया |

1.  

यूँ आप मानती कँहा है हमारी बात ,
यूँ आप जानती कँहा है हमारे दिल के जज्बात ,

हम तो आप की यादो में रात रात भर नही सोते है ,
दिल को समझाते है  ,
फिर भी आपकी यादो में खो जाते है।।

2.

मै न दरिया हूँ न समंदर हूँ ,
न सूरज हूँ न अम्बर हूँ ,

ए ज़माने तूने कहा मुझे जुगनूं ,
मेरे यार ने कहा जुगनूं ,
तो मै जुगनूं भी सुन्दर हूँ ।।

3.

कुछ तो बात जरूर जरूर है तुझमे  ,
कुछ तो खास जरूर जरूर है तुझमे ,

वर्ना जो राम किसी लड़की को 
बहन के सिवा कुछ कहता नही  ,
तेरे लिए ये नगमे ये प्यार के शेर पढ़ता नही ।।

4.

मयखाने गया मै तो नशा बिलकुल न चढ़ पाया  ,
देखा है जब से तुझको नशा भरपूर है छाया ,

तूने मुड-मुड़ के देखता तो जो उन क्लासों में मुझको तो  ,
नशा तब का चढ़ा था जो ,अभी तक न उतर पाया  ।।

-Ramkinkar Das Tripathi

JOIN ME ON FACEBOOK

FOLLOW ME ON TWITTER

FOLLOW ME ON INSTAGRAM

LISTEN MY LATEST NEW POEM’S ON YOUTUBE

JOIN ME ON WHATSAPP +919649676563

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s